Monday, April 22, 2024

चमोली में सीएम धामी ने किया रोड शो! नंदा गौरा महोत्सव में की शिरकत,400 करोड़ की दी सौगात

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_img

गौचर में नंदा गौरा महोत्सव’ बेटी ब्वारी आवा उत्तराखंड तै अगनि बढ़ावा कार्यक्रम में सीएम धामी ने शिकरत की। इस दौरान सीएम धामी ने महिलाओं के साथ चरखा चलाया। साथ ही पहाड़ की पारंपरिक चक्की (जांदरा) चलाई। उलख्यारे (ओखली) में पारंपरिक रूप से गिंज्याली (मूसल) से धान की कुटाई भी की। वहीं नीति माणा की महिलाओं ने विधानसभा में समान नागरिक संहिता पर बोली गयी कविता को भोजपत्र पर लिख कर भेंट उन्हें किया।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गौचर में रोड शो किया। साथ ही नंदा गौरा महोत्सव’ के तहत बेटी ब्वारी आवा उत्तराखंड तै अगनि बढ़ावा कार्यक्रम में शिरकत की। इस दौरान सीएम धामी ने 400 करोड़ की कई योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया। सीएम धामी ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि भगवान बदरी विशाल, नीति और माणा की यह धरती विकास की नई ऊंचाइयों को छुएं। बता दें कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बीआरओ गेस्ट हाउस गौचर से मेला ग्राउंड तक रोड शो किया. जिसमें हजारों की भी उमड़ी। इस दौरान पारंपरिक परिधान में सजी महिलाओं ने सीएम धामी पर फूल बरसाए। इसके बाद सीएम धामी ने विभिन्न हस्त निर्मित उत्पादों के स्टॉल का निरीक्षण किया। जहां महिलाएं अपने हस्तशिल्प को प्रदर्शित करती दिखीं। जिस पर सीएम धामी ने कहा कि यह पीएम मोदी के ‘वोकल फॉर लोकल’ के मंत्र को दर्शाता है जो उन्होंने माणा गांव से दिया था। वहीं सीएम धामी ने अपने संबोधन में कहा कि आज ₹97 करोड़ से ज्यादा की योजनाएं पूरी हो गई और ₹300 करोड़ से ज्यादा की योजनाओं का शिलान्यास किया गया है जो क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होंगे। सरकार उत्तराखंड को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का काम कर रही है। पीएम मोदी के नेतृत्व में डबल इंजन की सरकार उत्तराखंड में विकास कर रही है। सरकार का प्रयास है कि भगवान बदरी विशाल और नीति-माणा की धरती में विकास हो। यहां की बहनें विभिन्न उत्पाद बनाए रहे हैं। जो ‘वोकल फोर लोकल’ के मंत्र को आत्मसात कर रही हैं। सीएम धामी ने कहा कि हमारी मातृशक्ति सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रही हैं। वो किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं है. दुर्गम क्षेत्र में महिलाएं सेल्फ हेल्प ग्रुप के माध्यम से कुटीर उद्योग चला कर विकास को गति देने का काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने 4 लाख बहनों को लखपति बनाने का लक्ष्य रखा है। महिलाओं को चारधाम यात्रा और अंतरराज्यीय मेले के माध्यम से बाजार उपलब्ध कराया जा रहा है। महिलाओं के पास कौशल की कमी नहीं है। अब यही कौशल उनके परिवार को आर्थिक रूप से मजबूत बना रहा है।

 

 

ताजा खबरे