Wednesday, February 21, 2024
spot_imgspot_img

टाटा शेयर धारकों के लिए अच्छी खबर

नई दिल्ली. टाटा समूह की कंपनी टीआरएफ के शेयरों में सोमवार को एक बार फिर 10 फीसदी का अपर सर्किट लग गया. कंपनी के शेयर 29 रुपये की तेजी के साथ आज 324 रुपये पर पहुंच गए. ये लगातार 5वां कारोबारी सत्र है जब टीआरएफ के शेयरों में अपर सर्किट लगा है. ये शेयर आज अपने अब तक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गए हैं.

पिछले 5 सत्रों में टीआरएफ के शेयरों ने 60 फीसदी का रिटर्न दिया है. वहीं, एक महीने में ये शेयर 123 फीसदी ऊपर गया है. जानकारों का कहना है कि क्योंकि यह शेयर लगातार अपर सर्किट में लग रहा है इसलिए इसमें नई खरीदारी की सलाह नहीं दी जा सकती. हालांकि, वे ये भी कह रहे हैं कि शेयर 420 रुपये तक जा सकता है और निवेशकों को 300 रुपये का स्टॉप लॉस रखना चाहिए.

जानें एक्सपर्ट्स की राय
चॉइस ब्रोकिंग के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर सुमित बगाड़िया ने कहा है कि इस शेयर में अभी नई खरीदारी की सलाह नहीं दी जा सकती है क्योंकि इसमें लगातार अपर सर्किट लग रहा है. हालांकि, उन्होंने आगे कहा कि निवेशकों को 300 रुपये का स्टॉप लॉस ध्यान में रखना चाहिए. साथ ही बगाड़िया मानते हैं कि ये शेयर शॉर्ट टर्म में 375 रुपये तक जा सकता है. आईआईएफएल सिक्योरिटीज के उपाध्यक्ष अनुज गुप्ता कहते हैं कि नए निवेशकों को इसमें गिरावट होने पर खरीदारी करनी चाहिए. उन्होंने खरीदारी के लिए 290-300 रुपये तक का प्राइस रेकेमेंड किया है. साथ ही उन्होंने कहा है कि 385 रुपये के पास इस शेयर को गतिरोध मिल सकता है और अगर शेयर यहां से आगे निकलता है तो यह 420 रुपये तक जा सकता है.

टीआरएफ के शेयरों की प्राइस हिस्ट्री
टीआरएफ के मल्टीबैगर शेयर है. इस साल अब तक ये शेयर 135 रुपये से बढ़कर 324 रुपये तक पहुंच गया है. इस दौरान शेयरों ने 135 फीसदी का रिटर्न दिया है. वहीं, पिछले 1 साल में ये शेयर 120 रुपये से यहां तक पहुंचा है और 170 फीसदी का रिटर्न दिया है. इस शेयर का 52 हफ्तों का लो 106 रुपये है. मौजूदा शेयर प्राइस पर कंपनी का मार्केट कैप 325 करोड़ रुपये है.

कंपनी की वित्तीय स्थिति
चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में कंपनी ने 41 करोड़ रुपये का रेवेन्यू जेनेरेट किया था जिसमें इसे 27 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है. जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 16 करोड़ रुपये की आय प्राप्त की थी और इसे 20 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. कंपनी को वित्त वर्ष 2021-22 की अंतिम तिमाही में 27 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था. कंपनी मेटेरियल हैंडलिंग के लिए सिस्टम और इक्विपमेंट बनाती है. कंपनी स्टील प्लांट, पोर्ट्स, फर्टिलाइजर और माइनिंग सेक्टर के लिए अपनी सेवाएं देती है.

- Advertisement -spot_imgspot_img

ताजा खबरे