Monday, May 27, 2024

शायरी कि दुनिया का महशूर नाम जौन एलिया ✍️✍️✍️✍️

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_img

में जो हूं jaun Elia हूं जनाब इस नाम का बेहद लिहाज कीजिएगा।

उर्दू अदब के मकबूल नामो में से एक नाम है जौन एलिया
(Jaun Elia) एक मशहूर उर्दू कवि, लेखक और शायर थे। वे अपनी आमेजिंग स्टाईल और अंदाज़-ए-बयां (expression) के लिए प्रसिद्ध (famous) रहे हैं। जौन एलिया का जन्म 14 दिसंबर, 1931 को अम्बाला, हरियाणा में हुआ। उनके पिता रजा महेंद्र प्रताप राय भी एक मान्यता प्राप्त शायर थे।

जौन एलिया की कविताएं गहराई से भरी होती थीं और उनके शेर अपनी तकलीफों, विचारों और जीवन के तत्वों को छूने वाली होती थी उनकी कविताएं संतुष्टि, विरह, जीवन की जटिलताओं के बारे में सोच, सोशल आर्म (social arm) और पॉलिटिक्स को व्यक्त करने वाली होती थी

जौन एलिया ने कई पुस्तकें लिखीं, जिनमें “शायद” और “गुमनाम” शामिल हैं, जो उनके लेखन की मशहूर पुस्तकें हैं। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से अद्वितीय वाणी और जगह बनाई। उन्हें उर्दू और हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त हुआ है और उन्होंने उर्दू के शेर और ग़ज़ल की दुनिया को अमूल्य रत्नों से सजाया है।

जौन एलिया की मृत्यु 8 नवंबर, 2002 को कराची, पाकिस्तान में हुई। उनकी कविताओं और लेखन की प्रभावशाली विरासत उनके अनुयायों के बीच आज भी जीवित है और उन्हें मान्यता प्राप्त कवियों में गिना जाता है।

ताजा खबरे