Friday, June 14, 2024

अफगानिस्तान में बड़ा धमाकाः जुमे की नमाज के दौरान मस्जिद के बाहर ब्लास्ट! धर्मगुरु मुल्ला मुजीब समेत 14 लोगों की मौत, मुल्ला ने सुनाया था सिर कलम करने का फरमान

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_img

नई दिल्ली। अफगानिस्तान से एक दुखद खबर सामने आ रही है यहां हेरात प्रांत में आज जुमे की नमाज के दौरान हुए धमाके में तालिबान के सबसे बड़े धर्मगुरुओं में से एक मुल्ला मुजीब उर रहमान अंसारी की मौत हो गयी। घटना गाजारघ शहर की है, माना जा रहा है कि इस हमले के पीछे आईएसआईएस के खुरासान ग्रुप का हाथ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गाजाघर की मस्जिद में कुल 2 ब्लास्ट हुए। इस दौरान जुमे की नमाज चल रही थी। मुल्ला मुजीब ही इस मस्जिद का मुख्य इमाम था। धमाका उसके सामने वाली कतार में हुआ। माना जा रहा है कि यह फिदायीन हमला था और इसमें दो लोग शामिल थे। दूसरा धमाका तब हुआ, जब लोग बाहर की तरफ भाग रहे थे। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुल्ला मुजीब चंद घंटे पहले हेरात में एक इकोनॉमिक कॉन्फ्रेंस में शिरकत के बाद सीधे मस्जिद पहुंचा था। इस बारे में उसके सेक्रेटरी ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। मुल्ला मुजीब को तालिबान के सबसे क्रूर नेताओं में से एक माना जाता था। वो लड़कियों की शिक्षा और उनके घर से निकलने का सख्त विरोधी था। करीब दो महीने पहले उसने एक फतवा जारी किया था। इसमें कहा गया था- अगर तालिबान शासन का कोई भी विरोध करता है या हुक्म नहीं मानता तो उसकी सजा सिर्फ यह होगी कि उसका सिर कलम कर दिया जाए। खास बात यह है कि इस फरमान या फतवे को तालिबान के ही प्रवक्ता ने मुजीब की निजी राय बताते हुए खारिज कर दिया था।

ताजा खबरे