Tuesday, February 7, 2023
spot_imgspot_img

कांवड़ यात्रा में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने की संभावना को देखते हुए एसडीएम ने ली अधिकारियों की बैठक

ऋषिकेश। कोविड के चलते दो साल से बंद कांवड़ यात्रा इस वर्ष शुरू हो रही है। यात्रा में शिवभक्तों की भारी भीड़ उमड़ने की संभावना है। ऐसे में तीर्थनगरी ऋषिकेश में ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु बनाए रखना पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती होगा। कांवड़ यात्रा में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने की संभावना के मद्देनजर एसडीएम ऋषिकेश शैलेंद्र सिंह नेगी ने पुलिस, जल संस्थान, ऊर्जा निगम, परिवहन विभाग, परिवहन निगम, लोनिवि आदि विभागों के अधिकारियों की बैठक ली। एसडीएम ने बताया कि कांवड़ यात्रा में वर्ष 2019 में हरिद्वार, ऋषिकेश में अनुमानित 3 करोड़ शिवभक्त आए थे। इस वर्ष यह संख्या दो गुना होने की संभावना जताते हुए पुलिस को ट्रैफिक से लेकर सुरक्षा व्यवस्था चाकचौबंद रखने के निर्देश दिए।

कांवड़ यात्रा में ट्रैफिक सुचारु रहे इसके लिए हरिद्वार-ऋषिकेश हाईवे पर जयराम आश्रम चौराहे से लेकर चंद्रभागा पुल तिराहे तक ऑटो, विक्रम के लिए जीरो जोन करने और हरिद्वार से आने वाले यात्री वाहनों को श्यामपुर चौकी तिराहे से हरिद्वार बाईपास मार्ग, ढालवाला की ओर रूट डायवर्ट करने के निर्देश दिए। जीरो जोन में ऑटो और विक्रम वाले न सवारी उतारेंगे और ना बिठाएंगे। उल्लंघन करने पर वाहन सीज किए जाएंगे।

एसडीएम ने आईडीपीएल कृष्णानगर कालोनी और बैराज मार्ग पर बनने वाली अस्थायी पार्किंग में पेयजल, पथ प्रकाश, शौचालय आदि के इंतजाम यात्रा आरंभ होने से पहले करने को कहा। मौके पर तहसीलदार डा। अमृता शर्मा, सीओ डीसी ढौंढियाल, एसडीओ सिंचाई विभाग अनुभव नौटियाल, एआरटीओ प्रवर्तन मोहित कोठारी, एजीएम रोडवेज पीके भारती, सहायक अभियंता पीडब्लूडी सतीश कुमार, सहायक अभियंता जल संस्थान संजय कुमार, एसएसआई डीपी काला, रोडवेज प्रभारी विपिन चौधरी, वन दरोगा रामपाल, सहायक पूर्ति निरीक्षक रजत नेगी आदि मौजूद रहे।

- Advertisement -spot_imgspot_img

ताजा खबरे